Breaking News

फूल रातो-रात शरीर में झुर्रियां या त्वचा के ढीलेपन को दूर कर दे, नए बालों को जड़ से उगा दे, दाँतो की समस्या, पेट के कीड़ों और नकसीर में किसी वरदान से कम नही

नमस्कार दोस्तों फिर से आपका स्वागत है आज हम आपको ऐसे फूल के बारे में बताएँगे जो अपने में सैकड़ों औषधीय गुनो को समेटे हुए है, हम बात कर रहे है अनार के फूल की जी हाँ हमने इससे पहले की पोस्ट में अनार के फल के छिलको, Image result for आनार के फूलअनारदाना और इसकी पत्तियों के फ़ायदे बताए आज हम इसके फूल के 12 चमत्कारी फ़ायदे बताएँगे लेकिन उससे पहले जान ले इसमें बारे में, अनार का फूल नारंगी व लाल रंग के, कभी-कभी पीले ५-७ पंखुड़ियों से युक्त एकल या ३-४ के गुच्छों में होते हैं। इसकी पुष्प कलिका का ४-५ ग्राम तक सेवन किया जा सकता है।Image result for आनार के फूल

आनार के फूल या कालिका के 12 चमत्कारी फ़ायदे :

1. नाक से खून आना या नकसीर
इनका रस 1-2 बूंद नाक में टपकाने से या सुंघाने से नाक से खून बहना बंद हो जाता है। यह नकसीर के लिए बहुत ही उपयोगी औषधि है। या अनार के फूल और दूर्वा (दूब नामक घास) के मूल रस को निकालकर नाक में डालने और तालु पर लगाने से गर्मी के कारण नाक से निकलने वाले खून का बहाव तत्काल बंद हो जाता है।Image result for नाक से खून

2. दांत से खून आना
अनार के फूल छाया में सुखाकर बारीक पीस लेते हैं। इसे मंजन की तरह दिन में 2 या 3 बार दांतों में मलने से दांतों से खून आना बंद होकर दांत मजबूत हो जाते हैं।Image result for दांत से खून आना

3. पेट के कीड़े
अनार के फूल काढ़ा बनाकर  उसमें 1 ग्राम तिल का तेल मिलाकर पीने से पेट के कीड़े समाप्त हो जाते हैं।Image result for पेट के कीड़े

4. अतिसार
अनार की कली 1 ग्राम, बबूल की हरी पत्ती 1 ग्राम, देशी घी में भुनी हुई सौंफ 1 ग्राम, खसखस या पोस्त के दानों की राख आदि 3 ग्राम की मात्रा में लेकर चूर्ण बना लें, फिर इसी चूर्ण को लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग की मात्रा में 1 दिन में सुबह, दोपहर और शाम को मां के दूध के साथ पीने से बच्चों का दस्त आना बंद हो जाता है।Image result for अतिसार

5. दांतों के सभी रोग
अनार तथा गुलाब के सूखे फूल, दोनों को पीसकर मंजन करने से मसूढ़ों से पानी आना बंद हो जाता है। केवल अनार की कलियों के चूर्ण का मंजन करने से मसूढ़ों से खून आना बंद हो जाता है।Image result for दांतों के सभी रोग

6. सिर का दर्द
लगभग 20 ग्राम अनार की कली और 10 ग्राम शर्करा को मिलाकर बारीक पीस लें। इस चूर्ण को सूंघने से सिर दर्द ठीक हो जाता है। या अनार के फूलों के रस और आम के बौर के रस को मिलाकर सूंघने से रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) के कारण होने वाला सिर का दर्द ठीक हो जाता है।Image result for सिर का दर्द

शरीर में झुर्रियां या मांस का ढीलापन नार के पत्ते, छिलका, फूल,कच्चे फल और जड़ की छाल सबको एक समान मात्रा में लेकर, मोटा, पीसकर, दुगना सिरका, तथा 4 गुना गुलाबजल में भिगायें। 4 दिन बाद इसमें सरसों का तेल मिलाकर धीमी आंच पर पकायें। तेल मात्र शेष रहने पर छानकर बोतल में भरकर रख लें। इस तेल को रोज चेहरे या शरीर के अन्य भाग पर मालिश करें तो त्वचा की शिथिलता में इससे लाभ होता है। इसके साथ ही जिनके शरीर में झुर्रियां पड़ गई हों, मांसपेशियां ढीली पड़ गई हो उन्हें भी इस तेल की मालिश से निश्चित लाभ होता है।Image result for आनार के फूल

8. माँ बनने में सहायक और प्रदर रोग दूर करे  : अनार की 1-2 ताजी कली पानी में पीसकर पिलाने से, गर्भधारण शक्ति बढ़ती है तथा प्रदर रोग दूर होता है। या प्रदर रोग में अनार के फूलों को मिश्री के साथ पीसकर सेवन करने से लाभ होता है।Related image

9. घाव भरने में : अनार के फूलों की कलियां, जो निकलते ही हवा के झोकों से नीचे गिर पड़ती हैं, इन्हें जलाकर क्षतों (जख्मों, घावों) पर बुरकने से वे शीघ्र ही सूख जाते हैं।

10. बालों को उगाए  : अनार के फूल पानी में पीसकर सिर पर लेप करने से गंजापन दूर हो जाता है।Image result for आनार के फूल

11. पेशाब की बीमारी अनार की कली, सफेद चंदन की भूसी, वंशलोचन, बबूल का गोंद सभी 10-10 ग्राम, धनिया और मेथी 10-10 ग्राम, कपूर 5 ग्राम। सबको आंवले के थोड़े-से रस में घोट लें। फिर बड़े चने के बराबर की गोलियां बना लें। 2-2 गोली रोज सुबह-शाम पानी से लेने से मूत्ररोग ठीक हो जाता है।

About admin

Check Also

मौत को छोड़ कर सभी रोगों को जड़ से खत्म कर देती है यह चीज

दक्षिण भारत में साल भर फली देने वाले पेड़ होते है. इसे सांबर में डाला …