Breaking News

लहसुन है अमृत के समान लेकिन दुर्भाग्य से 99% लोग नहीं जानते इसे खाने का सही तरीका और 15 अद्भुत फ़ायदों के बारे में, ज़रूर पढ़े और शेयर करे date_range August 14, 2017

आज हम आपको  बता रहे है लहसुन को खाने सही तारिके के बारे में, आपसे विनम्र निवेदन है कि अगर यह पोस्ट आपको उपयोगी लगी हो तो शेयर अवश्य करे ताकि सभी जरूरतमंद इसका लाभ ले सके। लहसुन का प्रयोग भारत में बहुत पहले से चला आ रहा है। यह दाल व सब्जी में प्रयोग किया जाता है। इसका उपयोग औषधि को बनाने में किया जाता है।Image result for लहसुन

मान्यता है की देव-दानव के बीच हुए अमृत युद्ध में अमृत की कुछ बूंदे धरती पर बिखर गई उन्हीं बूंदों से धरती पर जिस पौधे की उत्पति हुई। वह लहसुन का पौधा था। इसलिए कहा जाता है कि लहसुन एक अमृत रासायन है। आईए देखें इसके कुछ ऐसे चमत्कारी उपयोग जिनसे आपकी कई परेशानीयां हाल हो सकती हैं, खास तौर पर मोटापा।Image result for लहसुन

माना जाता है कि इसका प्रयोग करने वाले मनुष्य के दांत, मांस व नाखून बाल, व रंग कमज़ोर नहीं होते हैं। यह पेट के कीड़े मारता है व खांसी दूर करता है। लहसुन कब्ज को मिटाने वाला व आंखों के रोग दूर करने वाला माना गया है। अगर आप थुलथुले मोटापे से परेशान हैं तो अपनाएं ये लहसुन के अचूक प्रयोग।लहसुन के गुणों का वर्णन आयुर्वेद में हजारों बार मिलता है, लेकिन इसको खाना किस प्रकार है यह शायद बहुत ही कम लोग जानते हैं| अब हम जानेंगे कि लहसुन को सही तरीके से खाने का तरीका क्या है और इससे हमें कौन से फायदे मिलेंगे| लहसुन ब्लड प्रेशर को सामान्य करता है और कोलेस्ट्रॉल बढ़ने से भी रोकता है| इसके अलावा भी लहसुन खाने के बहुत से लाभ है|Image result for लहसुन

सेवन की मात्रा

कितना लहसुन हम खा सकते हैं-एक दिन में आप 4 से 5 ग्राम लहसुन खा सकते हैं| इससे ज्यादा खाना शायद आपकी सेहत के लिए अच्छा नहीं होगाImage result for लहसुन

खाने का सही तरीका

लहसुन को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें| काटने के बाद इसे पीस लें| पीसने के बाद ऐसे 10 मिनट ऐसे ही रख दें, यह बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि अगर आप इस को पीसने के बाद तुरंत इस्तेमाल करेंगे, तो आप इस से होने वाले फायदे का पूरी तरह से लाभ नहीं ले पाएंगे|

किन लोगों को नहीं खाना चाहिए

अगर कोई भी व्यक्ति रक्त पतला करने की दवाई लेता है,तो उसको लहसुन खाने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लेनी चाहिए, क्योंकि जो खून पतला करने की दवाइयां होती है,यह उनके विरोध में काम करता है|अगर आप भी इन्हीं दवाइयों का इस्तेमाल करते हैं,तो आप लहसुन खाने से थोड़ा परहेज ही रखें|वह लोग जिनको कच्चा लहसुन बदहजमी कर देता है,लहसुन को पका कर खाएं खाएं|Image result for लहसुन

लहसुन खाने के 15 अद्भुत फ़ायदे

लहसुन की 5 कलियों को थोड़ा पानी डालकर पीस लें और उसमें 10 ग्राम शहद मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें। इस उपाय को करने से सफेद बाल काले हो जाएंगे।

लहसुन के नियमित सेवन से पेट और भोजन की नली का कैंसर और स्त*न कैंसर की सम्भावना कम हो जाती है।Image result for लहसुन

बालो का उड़ना
लहसुन का रस बालों में लगायें और सूखने दें। इस तरह 3 बार रोज लहसुन का रस लगातार 60 दिनों तक लगायें। इससे सिर में बाल उग जाते हैं।

सिर की जूं
लहसुन को पीसकर नींबू के रस में मिलायें। रात को सोने से पहले सिर पर लगायें और सुबह धो लें यह क्रिया 5 दिन तक करें। ध्यान रहे कि यह आंखों पर न लगे। इससे सिर की जुंए मर जाती हैं।

दांत दर्द
दांतों में कीडे़ लगने या दर्द होने पर लहसुन के रस को लगाने से दर्द दूर होता है। लहसुन की कली दांत के नीचे रखकर उसका रस चूसने से दर्द जल्दी दूर होता है।Image result for लहसुन

लहसुन को पीसकर सरसों के तेल में मिलाकर आग पर गर्म करें। लहसुन जल जाने पर तेल को ठंडा करके छान लें। इस तेल में थोड़ा-सा सेंधानमक मिलाकर रोजाना मंजन करें। इससे दांतों के सभी प्रकार के रोग ठीक हो जाते हैं।

लहसुन को आग पर सेंककर दांतों के नीचे दबाकर रखें। इससे दांतों को दर्द ठीक हो जाता है।

कफ
लहसुन को खाने से श्वास नलियों में इकट्ठा कफ आराम से बाहर निकल जाता है। यह टी.बी. के रोगियों के लिए बहुत लाभकारी है।

दिल का दौरा
4-5 लहसुन की कलियों को दौरे के समय ही चबाकर खाना चाहिए। ऐसा करने से दिल का दौरा पड़ने का खतरा नहीं रहता है। इसके बाद लहसुन को दूध में उबालकर देते रहना चाहिए। दिल के रोग में लहसुन देने से पेट की वायु निकल जाती है। इससे दिल का दबाव हल्का हो जाता है और दिल को ताकत मिलती है।

वृद्धावस्था की झुर्रियां : जो व्यक्ति रोज लहसुन चबाता है। इसके चेहरे पर झुर्रियां नहीं आती हैं।

प्लूरिसी
अगर फेफडे़ के पर्दे में पानी भर गया हो, बुखार हो, सांस रुक-रुक कर आती है और छाती में दर्द हो तो लहसुन पीसकर, गेहूं के आटे में मिलाकर गर्म-गर्म पट्टी बांधने से लाभ होता है।

लहसुन का रस 3.5 से 7 मिलीलीटर सुबह-शाम सेवन करने से उपवृक्क (गुर्दे) की टी.बी. या किसी भी प्रकार की टी.बी में लाभ मिलता है।

250 मिलीलीटर दूध में लहसुन की 10 कली उबालकर खाएं तथा ऊपर से उसी दूध को पीयें। यह प्रयोग लंबे समय तक करते रहने से टी.बी ठीक होती है।

लहसुन की 1-2 कली सुबह-शाम खाकर ऊपर से ताजा पानी पीना चाहिए। लहसुन यक्ष्मा (टी.बी.) को दूर करने में बहुत सहायक होता है।Image result for लहसुन

फेफड़ों की टीबी : लहसुन के प्रयोग से कफ गिरना कम होता है। यह रात को निकलने वाले पसीने को रोकता है, भूख बढ़ाता है और नींद अच्छी लाता है। फेफड़ों में क्षय (टी.बी) होने पर लहसुन के रस में रूई तर करके सूंघना चाहिए ताकि श्वास के साथ मिलाकर इनकी गन्ध फेफड़ों तक पहुंच जाए। इसे बहुत देर तक सूंघते रहने से लाभ होता है। खाना खाने के बाद भी लहसुन का सेवन करना चाहिए। यक्ष्मा, ग्रिन्थक्षय और हड्डी के क्षय में लहसुन खाना बहुत ही फायदेमंद है।

About admin

Check Also

मौत को छोड़ कर सभी रोगों को जड़ से खत्म कर देती है यह चीज

दक्षिण भारत में साल भर फली देने वाले पेड़ होते है. इसे सांबर में डाला …